जन्मपत्रिका मिलान

कुंडली मिलान में अश्लेषा आदि नक्षत्रों का दोष

प्रायः देखा गया है कि यदि कन्या या लड़के की कुंडली में विशाखा अश्लेषा आदि अशुभ नक्षत्र है तो कुंडली मिलान में बाधा उत्पन्न हो जाती है । अधिकांश मिलान कर्ता सूक्ष्म विचार नहीं करते जबकि शास्त्र में इसका सूक्ष्म विचार कहा गया है । शास्त्र में कहा गया है कि दुष्ट नक्षत्रों में उत्पत्ति का दोष केवल कन्या के लिए ही विशेषतया विचारणीय है । वर कन्या की कुंडली में ससुर का विचार चतुर्थ भाव से तथा सास का विचार दशम भाव से तथा देवर जेठ साले का विचार नवम भाव से किया जाता है । यदि उपरोक्त भाव के स्वामी बलवान- मित्र के घर में -स्वामी ग्रहों से युत या दृष्ट हो तो मूल - अश्लेषा - विशाखा आदि नक्षत्रों का दोष नहीं होता है । “मूल सर्पोद् भवं दौष्टय्ं न स्यान मित्रादयो ग्रहाः उक्त स्थान स्थिता सौम्य दृष्टा च बलिनो यदि “।।

अश्लेषा नक्षत्र वाली मिथुन लग्न की कुंडली में दशम भाव जो की सास का होता है उसका अधिपति गुरु चतुर्थ भाव में बैठकर अपने घर दशम भाव को देख रहा है गुरु शुभ ग्रह है तथा अपने घर को देख रहा है अतः दशम भाव अपने स्वामी से दृष्ट होने से शुभ फल कारक है । अतः अश्लेषा नक्षत्र हानि प्रद नहीं है । इसी प्रकार विशाखा नक्षत्र वाली कन्या लग्न की कुंडली में नवम भाव का अधिपति शुक्र अपने घर नवम भाव में स्थित है अतः नवम भाव बलिष्ठ होने से देवर जेठ या साले के लिए शुभ है अतः विशाखा नक्षत्र हानि प्रद नहीं है । इस प्रकार अशुभ नक्षत्रों का सूक्ष्म विचार कर ही निर्णय किया जाना चाहिए यही शास्त्र सम्मत है । विश्वास है विद्वान ज्योतिषी इसी प्रकार शास्त्र सम्मत निर्णय करेंगे ।

कुंडली मिलाना क्या है?

कुंडली मिलाने (Kundli Milan) की प्रणाली बहुत विस्तृत है, इसकी दो मुख्य विशेषताएं हैं। पहली ग्रहों को मिलाना है, और दूसरी गुण मिलाना जो कि अन्य विशिष्ट पहलुओं के मिलाने के रूप में देखी जा सकती है। गुण मिलाना भारत में बहुत लोकप्रिय है, और इसका एकमात्र उद्देश्य शादी और अनुकूलता के प्रयोजन से सबसे अच्छी कुंडली को मिलाना है। गुण मिलाने की प्रणाली वैदिक काल से भारत में अपनाई जाती है, और आज भी इसे दो कुंडली के बीच संगतता को पहचानने हेतू सबसे अच्छा साधन माना जाता है। इस व्यवस्था का समाज में इस प्रकार प्रचलन है, कि प्रेम विवाह के मामले में भी परिवार कुंडली मे गुण मिलाने पर जोर देते हैं। गुण मिलाने के लिये अधिकतर ज्योतिष और पंडित एक प्रणाली का अनुसरण करते हैं, जिसके द्वारा एक व्यक्ति के वैवाहिक जीवन के सभी पहलुओ के बारे मे जानकारी प्राप्त के जाती है|

इसमे सामान्य अनुकूलता, व्यवहार, यौन संगतता, संतान आदि को शामिल किया गया है। गुण और ग्रह मिलान कुंडली मिलाने की एक पूरी प्रक्रिया है, और इसके अलावा शादी के लिए, और कुछ भी जरूरत नहीं है।गुण मिलाना जन्म नक्षत्र पर आधारित है, इसलिए कुंडली का गुण मिलान, ग्रह मिलान (ग्रहों का मिलान) के साथ, खुश वैवाहिक संबंध को सुनिश्चित करता है।

Lord Ganesha

गुण मिलाना क्या है?

उन लोगों के लिए जो नए हैं और गुण मिलाने की प्रणाली से परिचित नहीं हैं, मैं उन्हें बताना चाहता हूँ, कि गुण मिलाने की प्रणाली दोनों कि कुंडली की 8 पहलुओं को मिलाने पर आधारित है। ये वार्ना, वश्य, तारा, योनि, ग्रहमैत्री, गण, भकूट और नाड़ी हैं। ये सभी 8 कूटें 1 से 8 अंक या गुणों को दर्शाते हैं, जो कि कुल 36 गुण बनाते है। अंतिम स्कोर के लिये, इन 8 कूटों में से, हर एक को मिलना होता है| भाकूत और नाड़ी दोष जो कि क्रमशः 7 और 8 अंक हैं, सबसे महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि भाकूत एक आनंदमय जीवन व्यतीत करने हेतू दो कुंडली के बीच की संगतता को दर्शाता है। जबकि नाड़ी, संतान से संबंधित है, और दोनों में से कोई एक भी दोष हो तो वैवाहिक सुखों को खराब कर सकता है। एक अच्छी शादी के लिए न्यूनतम 18 गुण अंक होने चाहिए | अगर अंक 18 से कम है, तो मिलान को नकारा जा सकता है, क्योंकि संगतता 50% से कम होगा।किसी कारण वश अगर भकूत या नाड़ी दोष है, या फिर दोनों है, तो शादी के बंधन को नकारना पड़ेगा, क्योंकि इस प्रकार कि शादी में मुसीबत और जुदाई की संभावना अधिक हो जाती है।


 
क्रमांक लड़का और लड़की की कुंडली में मिले गुणों की संख्या शादी होने पर भावी परिणाम
1. 18 अथवा इससे कम गुण मिलने पर इस स्थिति में शादी होने पर इसके असफल होने की संभावनाएं ज्यादा होती हैं.
2. 18 – 24 गुण मिलने पर इस स्थिति में हुई शादी सफल तो हो सकती हैं, परन्तु इसमें कई समस्याएँ आ सकती हैं.
3. 25 – 32 गुण मिलने पर इस प्रकार से कुंडलियों के मिलने से सफल वैवाहिक जीवन के संकेत प्राप्त होते हैं.
4. 32 – 36 गुण मिलने पर शादी के लिए सर्वोत्तम साथी. इस प्रकार की शादियों में समस्याएं उत्पन्न ही नहीं होती, और अगर हो भी तो वे रिश्ते पर बुरा प्रभाव नहीं डालती.

[परन्तु स्थानीय मान्यता के अनुसार भगवान राम और माता सीता की कुंडलियों के भी पूरे 36 गुण मिले थे, उनका जीवन कष्टों में बिता, अतः कुछ लोग पूरे 36 गुण मिलने की स्थिति को शुभ नहीं मानते.]

नवीन वर वधू के गुण मिलान की सारणी हमारे द्वारा संपादित एवं प्रकाशित संवत् 2078 के श्री सिद्धिदात्री पंचांग में दी है । वर वधु के गुण मिलान की इस नवीन सारणी की विशेषता है कि इसमें शास्त्र के अनुसार जिन दोषों का परिहार हो गया है उनको समाहित कर उनके गुण संख्या युक्त कर लिखी गई है तथा अधिकांश मामलों में शास्त्र के अनुसार गुणों का मिलान हो जाता है । इस सारणी में नवांश मैत्री तथा नाड़ी दोष का परिहार भी समाहित किया गया है । कॉपीराइट एक्ट एवं ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन के अंतर्गत इस सारणी के सर्वाधिकार सुरक्षित हैं।इस प्रकार की सारणी अभी तक किसी पंचांग में प्रकाशित नहीं हुई है।

गुणों के मिलान की सूक्ष्म सारणी

शास्त्र में लिखा है कि यदि लड़के एवं लड़की की राशियों में परस्पर मित्रता हो तो वर्ण दोष, गण दोष ,योनि दोष ,तारा दोष एवं भकूट दोष तीनों प्रकार के भकूट दोष द्द्द्ववी-द्वादश नव-पंचम एवं षडाष्टक दोषों का नाश हो जाता है । यदि राशि मैत्री ना हो किंतु राशि नवांश के अधिपतिओं की मित्रता हो तो भी उपरोक्त दोष समाप्त हो जाते हैं । इस प्रकार स्पष्ट है कि यदि गुणों की संख्या उपरोक्त दोषों के कारण अल्प है तो राशियों की मित्रता या राशि के नवांश पतियों की मित्रता से जो दोष दूर हो जाते हैं उनके गुणों को भी युक्त करना चाहिए। यदि राशियों में मित्रता नहीं है तथा भकूट दोष नहीं है तो राशि मैत्री का दोष समाप्त हो जाता है । चाहे दोनों की राशियों का स्वामी एक ही ग्रह हो तो वह भी मित्रता की श्रेणी में ही लिया जाता है । यदि दोनों की राशियों का अधिपति बुध गुरु या शुक्र में से कोई एक ग्रह हो तो नाड़ी दोष नहीं होता है । उदाहरण के लिए एक की राशि धनु है तथा दूसरे की मीन राशि है तो दोनों की राशियों का स्वामी एक ही ग्रह बृहस्पति होने से नाड़ी दोष नहीं होता है । इसी प्रकार यदि नाड़ी दोष है और चरणों का वेध नही है तो अल्प दोष होता है। एक का पहला चरण हो दूसरे का चौथा चरण या एक का दूसरा चरण और दूसरे का तीसरा चरण हो तो इन चरणों का परस्पर वेध होता है। उस स्थिति में नाड़ी दोष में विवाह नहीं करना चाहिए ।विशेषकर के मध्य नाड़ी में विवाह नहीं करना चाहिए ।यदि अत्यंत आवश्यकता हो तो चरणों के वेध से परिहार तथा महामृत्युंजय जप आदि के द्वारा शांति कर स्वर्ण नाड़ी का पूजन कर ही विवाह संपन्न करना चाहिए । यदि लड़के और लड़की कि एक ही राशि हो एवं एक ही नक्षत्र हो तो चरण अलग-अलग होने पर विवाह शुभ होता है ।

संवत 2078 सन 2021-22 के श्री सिद्धिदात्री पंचांग में गुणों के मिलान की सूक्ष्म सारणी दी गई है जिसमें की वर वधू के गुण मिलान के 11,000 कोष्टक दिए गए हैं ।

मंगल दोष का विचार

प्रायः देखने में आया है कि मंगली दोष का विचार करते समय कई लोग सुक्ष्म विवेचना नहीं करते है जिससे कि कुंडली मिलान में बाधा उत्पन्न हो जाती है ।शास्त्र में ऐसे अनेक वाक्य हैं जिससे मंगली दोष का निवारण हो जाता है । जो लोग मात्र कंप्यूटर के गुण मिलान सारणी पर विश्वास कर कार्य करते हैं वह अनेक बार कुंडली मिलान में त्रुटि कर जाते हैं । शास्त्र में स्पष्ट लिखा है की यदि शुक्र सखल हो या खलांतर्गत होतो ऐसे लड़के का विवाह मंगली कन्या से ही करना चाहिए जबकि ऐसा लड़का मंगली नहीं होता लेकिन उसका विवाह मंगली कन्या से ही करना चाहिए यह शास्त्र का वचन ही अपने आप में दर्शाता है की लड़का मंगली नहीं है फिर भी उसके लिए लड़की मंगली होनी चाहिए। पुनः यदि मंगल नीच राशि का है या वक्री है या अस्त है या शत्रु के घर बैठा है तो भी मंगली दोष समाप्त हो जाता है। ऐसे लड़के या ऐसी लड़की जिसकी कुंडली में मंगल नीच राशि का शत्रु राशि का या अस्त या वक्री है तो उसका विवाह बिना मंगली वाले से किया जाना चाहिए। पुनः यह भी लिखा है कि यदि मंगल पर गुरु की दृष्टि हो तो भी मंगली दोष समाप्त हो जाता है । यदि मंगल राहु के साथ हैं तो मंगल का प्रभाव समाप्त हो जाता है ।यदि बलवान गुरु या शुक्र लग्न या सप्तम भाव में हैं तो भी मंगली दोष समाप्त हो जाता है । इस प्रकार अनेक वाक्य शास्त्र में उपलब्ध हैंं । प्राय:देखने में आता है कि कंप्यूटर से मिलान होने वाली कुंडलियां मंगल दोष के आधार पर अस्वीकार कर ली जाती हैं जबकि शास्त्र में मंगल दोष का निवारण उपलब्ध होता है। इस प्रकार आंख मूंदकर कंप्यूटर प्रोग्राम पर विश्वास करना बड़ी भूल होती है क्योंकि जो व्यक्ति कंप्यूटर प्रोग्राम बना रहा है उसको ज्योतिष का कितना ज्ञान है यह महत्व रखता है। इसी कारण आज तक भविष्य देखने वाला कोई कंप्यूटर प्रोग्राम जिस पर पूर्ण विश्वास करा जा सके वह उपलब्ध नहीं है। मनुष्य की बुद्धि से बढ़कर कंप्यूटर कभी नहीं हो सकता।

कुंडली मिलाते समय कुछ बातें ध्यान में रखना चाहिए, जो कि अग्र लिखित है । -:

  • कुंडली मिलाने के लिए किसी भी राह चलते ज्योतिषी के पास न जायें, बल्कि उस पंडित को अपनी कुंडली दिखाए, जो वास्तव में इसके बारे में ज्ञान रखता हो.
  • कुंडली में आपका जन्म स्थान, समय, आदि सबकी जानकारी बिल्कुल सही हो.